Stock Market Crash क्या होता हैं | Crash होने पर क्या करें?

बाजार में निवेश करना एक रोमांचक लेकिन चुनौतीपूर्ण कारोबार है, और कभी-कभी यह बाजार क्रैश के रूप में अनुभव किया जा सकता है। बाजार क्रैश एक समय होता है जब शेयर बाजार में तेजी की जगह गिरावट होती है, और यह निवेशकों के लिए आर्थिक नुकसान का कारण बन सकता है। इस ब्लॉग पोस्ट में, हम बात करेंगे कि बाजार क्रैश क्या होता है, उसके कारण क्या होते हैं और क्रैश होने पर हमें क्या करना चाहिए।

बाजार क्रैश का अर्थ और कारण क्या है।

एक शेयर बाजार क्रैश कई कारणों के कारण हो सकता है, और यह महत्वपूर्ण है कि इन कारणों को समझें कि ये एक जटिल स्थिति में योगदान कर सकते हैं। हालांकि, इन्हें केवल पांच कारणों में सम्मिलित करना कठिन होता है, मैं कुछ सामान्य कारणों को बताऊंगा जो एक बाजार क्रैश में सहायक हो सकते हैं।

  1. आर्थिक मंदी: आर्थिक मंदी या धीमी वृद्धि एक शेयर बाजार क्रैश को उत्पन्न कर सकती है। जब कुल मामले में विकास की कमी होती है, तो व्यापारों को नुकसान होता है, जिसके परिणामस्वरूप कम कमाई और निवेशकों के आत्मविश्वास में कमी होती है। इसके परिणामस्वरूप शेयरों की कीमतों में व्यापक बिक्री और तेजी की कमी होती है।
  2. निवेशकों का आतंक और भावना: निवेशकों की भावना शेयर बाजार में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। अगर निवेशक आतंक में आते हैं या बाजार में आत्मविश्वास खो देते हैं, तो इसके कारण उनके द्वारा अपने शेयर बेचने का आदेश हो सकता है। नकारात्मक समाचार, भौतिकीय तनाव, या वैश्विक घटनाएं भय और अनिश्चितता पैदा कर सकती हैं, जिसके कारण निवेशक बड़े मात्रा में अपने शेयर बेचते हैं।
  3. पूंजीगत आंकड़े और अतिमूल्यन: शेयर बाजार में अतिरिक्त मूल्यांकन और पूंजीगत आंकड़े मार्केट में एक बबल बना सकते हैं। जब शेयरों की कीमतें उनके सचेत वैल्यू से काफी ज्यादा उच्च हो जाती हैं, जो विशेषज्ञ खरीदारी के कारण होती है, तो यह सहनीय नहीं होता है। अंत में, बबल फट जाता है, जिसके कारण मार्केट में सुधार या क्रैश हो सकता है।
  4. वित्तीय संकट: प्रमुख वित्तीय संकट, जैसे 2008 में आवासीय बाजार क्रैश या 2000 के दशक में डॉट-कॉम बबल का फटना, शेयर बाजार पर गंभीर प्रभाव डाल सकते हैं। ये संकट आमतौर पर प्रणालिकात्मक मुद्दों से होते हैं, जैसे अत्यधिक ऋणपोषण, जोखिमपूर्ण उधारदाता की प्रथाएं या अस्थायी संपत्ति मूल्य, जो बाजार क्रैश का कारण बन सकते हैं।
  5. काले हंस की घटनाएं: काले हंस की घटनाएं अपूर्व और अप्रत्याशित घटनाएं होती हैं जो बाजार पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालती हैं। उदाहरण के रूप में प्राकृतिक आपदाएं, आतंकवादी हमले, या महामारीयाँ शामिल होती हैं। ये घटनाएं आर्थिक मंदी को प्रभावित करती हैं, जिसके कारण बाजार में अनिश्चितता होती है और क्रैश का संभावित होता है।

यह जरूरी है कि शेयर बाजार कई कारणों के प्रभावित होता है और एक क्रैश आमतौर पर कई कारणों की संयोजन होती है। इसके अलावा, बाजार क्रैश को पूरी तरह से निश्चित रूप से पूर्वानुमान करना मुश्किल होता है, इसलिए निवेशकों के लिए महत्वपूर्ण है कि वे एक विविध और दीर्घकालिक निवेश रणनीति अपनाएं ताकि ऐसे अस्थिर समयों में भी संचालित रह सकें।

बाजार क्रैश की पहचान क्या है।

बाजार क्रैश को पहचानने के लिए कुछ चिन्हों की जांच करनी चाहिए। कुछ मुख्य चिन्हों में समायोजन, शेयर बाजार की भावनात्मकता, शेयरों की मूल्य में तेजी की बहुत बड़ी गिरावट, वाणिज्यिक मार्केट और अन्य अग्रिम इंडिकेटर्स शामिल हो सकते हैं। और सबसे महत्व पूर्ण एक दिन में 10% से ज्यादा किसी भी शेयर या इंडक्स में गरावट होता है तो आप मान सकते है की बाजार क्रैश हो रहा है

Stock Market Crash होने पर क्या करे

शेयर बाजार क्रैश के समय निवेशकों को संवेदनशीलता और सावधानी से कार्रवाई करने की जरूरत होती है। यहां कुछ महत्वपूर्ण कदम हैं जो एक बाजार क्रैश के समय लिए जा सकते हैं:

  • धैर्य बनाए रखें: शेयर बाजार में वोलेटिलिटी के समय में, धैर्य रखना महत्वपूर्ण है। पैनिक करने से बचें और संतुलित रहें। खरीदारी या बिक्री के निर्णयों पर विचारशीलता से काम करें और एक अच्छी विश्लेषण के साथ निवेश करें।
  • निवेश पोर्टफोलियो की विवेचना करें: एक बाजार क्रैश के समय, अपने निवेश पोर्टफोलियो की विवेचना करें और यहां विवेकपूर्ण निर्णय लें। अपनी निवेश स्थिति को आकलन करें और अगर आवश्यक हो तो अपने पोर्टफोलियो को समीक्षा करें।
  • नए निवेश के अवसर की खोज करें: एक क्रैश के समय, शेयर बाजार में नए निवेश के अवसर उत्पन्न हो सकते हैं। जब शेयरों की कीमतें नीचे जाती हैं, तो यह संभावित होता है कि आप सस्ते मूल्य पर निवेश कर सकें और अच्छे रिटर्न का लाभ उठा सकें। तार्किक विश्लेषण करें और मूल्यवान निवेश के अवसर को नजरअंदाज न करें।
  • विवेकपूर्ण निवेश करें: निवेश करने से पहले विवेकपूर्णता से विचार करें। बाजार क्रैश के समय, आपके निवेश निर्णय बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। अपने निवेश को विवेकपूर्णता से चयन करें, संभावित जोखिमों को ध्यान में रखें और निवेश के परिणामों का विचार करें।
  • वित्तीय सलाह का लाभ लें: एक क्रैश के समय, वित्तीय सलाह लेना बहुत महत्वपूर्ण हो सकता है। एक वित्तीय सलाहकार से मिलें और अपने निवेश योजना पर चर्चा करें। वे आपको सही दिशा देने में मदद कर सकते हैं और आपकी वित्तीय स्थिति को सुरक्षित रखने के लिए आवश्यक उपाय सुझा सकते हैं।

ध्यान दें कि यह सामग्री केवल सामान्य सलाह के रूप में प्रदान की जा रही है और यह निवेश सलाह या वित्तीय सलाह की विशेषता नहीं है। इसलिए, अपनी वित्तीय स्थिति को ध्यान में रखते हुए, अपने वित्तीय पेशेवर की सलाह लें और अपने निवेश के निर्णयों पर सोचविचार करें।

अंतिम शब्द ; Stock Market Crash

आशा करता हूं कि मैं आपको समझा पाया हूं कि Stock Market Crash क्या होता हैं और आपको सारे सवालों का उत्तर मिल गया होगा। कोई और सवाल है आपके मन में तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं। हम हर एक कमेंट का विस्तार रूप से जवाब देते हैं। धन्यवाद आपके कमेंट का हमें इंतजार रहेगा इस वेबसाइट IntradayView .com के और भी आर्टिकल पढ़ें आपको ढेर सारी जानकारियां और मिलेगी।

अन्ने पड़े,

Spread the love

Leave a Comment